सोमवार, 21 सितंबर 2009

जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को मिल जाए.....



जैसे सूरज की गर्मी से जलते हुए तन को
मिल जाये तरुवर कि छाया
ऐसा ही सुख मेरे मन को मिला है
मैं जबसे शरण तेरी आया, मेरे राम
भटका हुआ मेरा मन था कोई
मिल ना रहा था सहारा
लहरों से लड़ती हुई नाव को
जैसे मिल ना रहा हो किनारा
उस लड़खड़ाती हुई नाव को जो
किसी ने किनारा दिखाया
ऐसा ही सुख ...
शीतल बने आग चंदन के जैसी
राघव कृपा हो जो तेरी
उजियाली पूनम की हो जाएं रातें
जो थीं अमावस अंधेरी
युग-युग से प्यासी मरुभूमि ने
जैसे सावन का संदेस पाया
ऐसा ही सुख ...
जिस राह की मंज़िल तेरा मिलन हो
उस पर कदम मैं बढ़ाऊं
फूलों में खारों में, पतझड़ बहारों में
मैं न कभी डगमगाऊं
पानी के प्यासे को तक़दीर ने
जैसे जी भर के अमृत पिलाया
ऐसा ही सुख ...


1 टिप्पणी:

  1. I once listened to Sharma brothers on Har ki Paudi ; Haridwar.They sang many bhajans ,but could not repeat the magic they weave while singing this bhajan. Audience also craved for this bhajan alone and someone from the crowd sent a request written on cigarette box silver foil. They sang it and it was sheer magic. This bhajan has real devotion ingrained in it. Cursed are those Gau-patti dwellers who do not listen to this bhajan.

    उत्तर देंहटाएं